वही अपराजित ह्रदय हूँ

शाम के गहरे रंगों से
रात का पैगाम आये |
हारकर जो सो गया मैं 
दीप बनकर कौन आये |

मैं सुबह की आग हूँ
सूर्य का उच्छवास हूँ |
तिमिर का संहार करता
मैं समय की आस हूँ |

आज हो सकता हूँ चिंतित
आज हो सकता हूँ विचलित |
लौ जो देखो फड़फड़ाती
न मान मेरी मृत्यु निश्चित |

सुबह होगी कल यहीं पर
यह भरोसा है हमारा |
न सत्य हारे फिर कहीं पर
जुनून ऐसा है हमारा |

नियति के काले रंगों से
काल बनकर मैं लड़ूंगा |
रात कितनी हो विकट पर
विजयी बनकर मैं रहूँगा |

तेरे मेरे हारे दिनों का
वही अपराजित ह्रदय हूँ |
अनजान पथ पर चल पड़ा जो
वही अपराजित ह्रदय हूँ |

एक कोशिश और करता
जयनाद की मधुर लय हूँ |
कल का अपराजित ह्रदय हूँ
आज भी अपराजित ह्रदय हूँ |

– चक्रेश मिश्र “अनजान”

Advertisements

Express yourself

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s