एक बुढिया थी

एक बुढिया थी,

वहीँ कहीं, शादीपुर मेट्रो स्टेशन के बाहर,

दरी पर बैठती थी |

 

मैं वहां से रोज़ जाता,

कभी घिन आती, कभी आती दया,

चुरा के मुह निकल जाता |

 

कभी कोई साथ होता तो उसको

लम्बा लेक्चर दे मारता,

गरीबी पर, भुखमरी पर, भिख मंगई पर

समाज के उन नासूरो पर,

जो काम न करके मांगते भीख,

हमारी नाक कटाते विदेशियों के सामने,

नयी मेट्रो की शोभा बिगाड़ते,

उन नाकारों पर

जिन पर tax – payers का पैसा,

पानी की तरह लुटा रही सरकार |

 

लेकिन एक और “मैं” था,

जो मन ही मन रोता उसकी बेबसी पर,

सर्दी में ठिठुरते हाथों पर,

क्या करता, जेब होती खाली

उसे देने को चंद सिक्के न थे |

student ही तो था केवल,

हाँ, गर्लफ्रेंड को पिज्जा हट ले जाना

एक अलग बात थी |

इस वाले “मैं” का मानना था

भीख से गरीबी बढती है |

 

एक दिन यूँ ही

जाने किस झोंक में,

दो साल उसे रोज़ देखने के बाद,

संकल्प लिया था, उस पिघले “मैं” ने,

जब कुछ बन कर दिल्ली से वापस जाऊंगा,

झुर्रियों भरे हाथो में

एक 500 का नोट देता जाऊंगा |

रख लिए थे अलग हटाकर,

अपने तार्किक दिमाग से छुपाकर,

वो पैसे, एक क़र्ज़ की तरह |

 

अभी कुछ दिन से,

दिखी नहीं वो बुढिया |

सामने चाय वाले ने बताया

मर गयी वो,

यहीं कहीं, इसी मेट्रो पिलर के नीचे,

म्युनिसिपालिटी वाले ले गए लाश ट्रक में |

दुःख तो कुछ ख़ास नहीं हुआ,

मरते रहते हैं लोग रोज़,

यहाँ वहां, गली में, खेतों में,

बस चलना मुश्किल हो गया है तब से |

 

बटुआ भारी है, क़र्ज़ का बोझ है,

किसे दूं वो 500 का नोट,

जो जेब पे पत्थर बना बैठा है |

 

आज फिर उसी जगह

एक लंगड़ा बैठा था,

उसी तरह, भीख मांगने को |

 

दो रूपये का सिक्का

उछाल दिया उसकी तरफ |

सोचा, इतना बोझ कौन उठाये?

32 thoughts on “एक बुढिया थी

  1. so very true.. i can exactly relate to each n every word .. i guess somewhere down the line many ppl do feel in the same way.. u have also given their feelings an expression..

    Like

  2. Very touching Chakresh Mishra..seriously this moved me a lot!! I bless my stars to be a part of civil services where we are ordained by Constitution to make difference in many a lives like the one you mentioned in your amazing poem..Read more ..

    Like

  3. Speechless, perfectly written! coincidentally I’m going trough same situation. A lot of logical calculations are happening in mind, though I finally thought to help those poor, though I follow a scrutiny procedure, if someone is capable of working, I give him nothing.

    Ultimately for the positive side, if we won’t then who will.

    Like

  4. It could very easily be said to be a story of EACH OF US… How many times all of us try to help someone…but can’t.. why??? because first step is the most difficult one.
    Very touching in SIMPLE LINES.

    Like

  5. Irony is poems/paintings reflecting someone’s pain is always awesomely beautiful and everybody applaud but nobody wants to spare a coin or a min to help em 😐

    Like

  6. ‘Maarmik chitran’………..लेकिन एक और “मैं” था,
    जो मन ही मन रोता उसकी बेबसी पर,…………….most technical line….according to me….:D

    Like

  7. nice…heart touching…this is everywhere in Delhi…metro stations,traffic signals…some reality some fake…reality suffers bcz of fake!!!

    Like

  8. dil ko chhu gayi aapki poem…………..

    Sabd gile ho rahe aapki poem sun,,,,,,
    arpit hai shradha suman,,,,,,,,,
    maa ki smrati me……..

    Like

  9. How Beautiful this World Would Be…… While Each ‘CAPABLE’ buddy think in this Way…..

    “I don’t for a royal real aspire,
    For release or for paradise.
    To serve those bent with grief i desire,
    And calm their sorrows and them RISE…”

    isn’t it……?

    Like

  10. ye padhne ke baad aisa laga ki aap bilkul, “Nariyal ki tarah hain Chakresh”, bahar se sakht aur ander se komal.

    “लेकिन एक और “मैं” था,

    जो मन ही मन रोता उसकी बेबसी पर”………..beautiful lines..

    Like

Express yourself

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s