प्यार की गहरी कब्र खोदूंगा

सोचा था मैंने रात रात जगकर
तुम्हे बाहों में बस भर लूँगा
मिलोगी जब पहली दफा तुम
पीछे से हौले से आँखे ढक लूँगा

हँस दोगी तुम, जब तुम्हारे
घुंघराले बालों को सहला दूंगा
हाथ पकड़ कर खाली सडकों पर
घूमूँगा, बारिश में नहला दूंगा

काली खामोश रात का समा होगा
आँखों में झाकने का जज्बा होगा
तब तुम्हारे नारंगी होठों से
अपने दो होंठ मिला दूंगा

जितना जाना था मैं अनजान
उसमे ये ख्वाब तो अच्छे थे
बावरा नहीं जाना था लेकिन
वो सारे सपने तो कच्चे थे

सोचा था, मन की ये बातें
यूं ही कभी तुमसे बोल दूंगा
साथ जिन्दगी बिताने वाला अपना
दिल का राज़ खोल दूंगा

खैर, कुछ सपने इस जहाँ में यारो
बस टूटने ही को बनते हैं
कुछ पल, कुछ दिन, कुछ महीने
वो जिन्दगी ख़ुशी से रंगते हैं

शायद तेरे लायक नहीं था
या तेरी कोई मजबूरी थी
पर एक झलक प्यार की दिखाते
नाराजगी क्यों इतनी जरूरी थी

ऐसा लगा कहीं भाग जाऊं
सबसे दूर, या खुद से दूर
आंसू टपके, पोंछ डाले, नहीं पाया
खुद को कभी ऐसा मजबूर

अब प्यार की गहरी कब्र खोदूंगा
चेहरे पे झूठी मुस्कान चढ़ा लूँगा
मर मर कर तेरे बिन जी तो लूँगा
पर यार मेरे, तुझे कैसे भूलूंगा

– चक्रेश मिश्र “अनजान”

9 thoughts on “प्यार की गहरी कब्र खोदूंगा

  1. very well,
    awesome poety from heart. i think u love a girl. don’t worry !
    “mere dil mai muhabbat ki aaj bhi hai,
    halaki usko mere muhhabat pe sak aaj bhi hai !
    talab mai dhoye the kabhi apne hathho ke mehadi,
    pure talab mai mehadi ki mehak aaj bhi hai !!”

    Like

  2. very well,
    awesome poety from heart. i think u love a girl. don’t worry !
    “mere dil mai muhabbat ki aaj bhi hai,
    halaki usko mere muhhabat pe sak aaj bhi hai !
    talab mai dhoye the kabhi apne hathho ke mehadi,
    pure talab mai mehadi ki mehak aaj bhi hai !!”

    Like

  3. aap chahe to kabr ke murdon ko phir jeeta jagta insaan bana sakte hain.par pyar ke sanjeevani kumbh par se jhuthi samajikta ka patra pare rakhna hoga

    Like

Express yourself

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s